‘विश्व हृदय दिवस’

by Teena Sharma Madhvi

अकसर हम सुनते हैं और कहते भी हैं कि, आज मेरे सीने में दर्द हो रहा हैं…या आज सुबह से ही मेरे बाएं हाथ में अजीब सा दर्द या झंझनाहट महसूस हो रही हैं…। 

सिद्धी शर्मा

 फिर भी हम सिर्फ देसी उपचार या घर पर रखी दर्द निवारक दवा लेकर रह जाते हैं…। मगर अब नहीं, अब ज़रा थोड़ा और अधिक ‘हेल्थ कांशस’ यानि स्वास्थ्य के प्रति जागरुक और सतर्क हो जाइए…और दिल संबंधी बीमारी की सही जानकारी भी रखें। 

       ‘कोरोना काल’ ऐसे कई लोगों की कहानियां भी अपने पीछे छोड़ गया हैं जो कई गंभीर बीमारियों से ग्रसित थे जिनमें हृदय संबंधी बीमारी भी शामिल हैं। कुछ लोग अपनी जागरुकता और समय—समय पर मेडिकल सलाह लेकर अपने हार्ट की देखभाल कर रहे हैं…लेकिन ​कुछ लोग अब भी लापरवाह बनें हुए हैं। 

     ख़ुद डॉक्टर्स और मेडिकल साइंस ने भी इस बात को स्वीकारा है कि हृदय संबंधी बीमारी वालों को कोरोना संक्रमित होने का ख़तरा हैं। ऐसे में ‘कहानी का कोना’ ब्लॉग आज आपको अपने हृदय की देखभाल करने की अपील करता हैं। 

   आज चूंकि ‘विश्व हृदय दिवस’ हैं, इसीलिए ख़ुद का ख़याल रखने का संकल्प लें और समय—समय पर अपना मेडिकल चेकअप भी कराएं। पिछले डेढ़ साल से हम सभी की दिनचर्या बदल गई है… ‘वर्क फ्रॉम होम’ जैसी नई कल्चर का जन्म हो गया हैं। ऐसे में कुछ लोग ​ए​क निश्चत समय सीमा के बाहर भी अपना काम कर रहे हैं। जिससे उनकी ‘पर्सनल और प्रोफेशनल’ टाइमिंग गड़बड़ा गई हैं। जिससे उनका दिमाग तनाव में रहने लगा हैं। 

   जिसका सीधा असर हृदय पर पड़ रहा हैं। यदि आप ऐसी ही स्थिति से गुजर रहे हैं तो एक बार ठहरकर सोचें और अपनी दिनचर्या को आज ही से मैनेज करें। किसी भी सूरत में मानसिक अवसाद या कहें ओवर लोडेड वर्क की टेंशन से बचें। 

   निश्चत ही हम सभी इन बेसिक बातों को जानते हैं लेकिन फिर भी मानते नहीं हैं…। यदि आपकी दिनचर्या भी अव्यवस्थित हो रही हैं तो आज ही से उसे व्यवस्थित करने का संकल्प लें….। 

 

   ये ब्लॉग बस आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग और सतर्क रहने के लिए लिखा गया हैं। आपको क्या खाना चाहिए और कौन—सा मेडिकल चेकअप करवाना चाहिए ये सारी जानकारी आप अपने डॉक्टर्स की सलाह पर लें…।

  ‘विश्व हृदय दिवस’ पर आप सभी को बेहतर स्वास्थ्य की शुभकामनाएं…। 

  ……………….

Related Posts

Leave a Comment

मैं अपने ब्लॉग kahani ka kona (human touch) पर आप सभी का स्वागत करती हूं। मेरी कहानियों को पढ़ने और उन्हें पसंद करने के लिए आप सभी का दिल से शुक्रिया अदा करती हूं। मैं मूल रुप से एक पत्रकार हूं और पिछले सत्रह सालों से सामाजिक मुद्दों को रिपोर्टिंग के जरिए अपनी लेखनी से उठाती रही हूं। इस दौरान मैंने महसूस किया कि पत्रकारिता की अपनी सीमा होती हैं कुछ ऐसे अनछूए पहलू भी होते हैं जिसे कई बार हम लिख नहीं सकते हैं।

error: Content is protected !!