कभी 'फुर्सत' मिलें तो...

'कभी फुर्सत मिलें तो'...

कभी 'फुर्सत' मिलें तो... ढूंढना वो आंसू की बूंदे, जो गिरी थी 'कार' में जब तूने अपने सीने से लगाया था...। कभी फुर्सत मिलें तो ढूंढना अपना वो 'पागलपन', जब इक रात तूने मेरा आंचल हटाने की ज़िद की थी...। ये पंक्तियां है मेरी यानी टीना शर्मा 'माधवी' की लिखी कविता 'कभी फुर्सत मिलें तो'...। कहानी का कोना में पढ़िए कविता 'कभी फुर्सत मिलें तो'...।

 

कभी फुर्सत मिलें तो चले आना इस पते पर

जहां बसती हैं यादें तेरे और मेरे अहसासों की...।

कभी फुर्सत मिलें तो महसूस कर जाना वो 'सैकंड'

जिसकी 'छुअन' अब भी बाकी हैं इन लबो पर...। 

 कभी फुर्सत मिलें तो एक बार फिर से ढूंढ लेना वो कान का 'बूंदा'

जो गिरा था सरगोशी से तेरी....।

कभी 'फुर्सत' मिलें तो.

टीना शर्मा 'माधवी'

चाय की 'तपेली' पर अब भी बाकी हैं निशां

जो तुझसे बतियाते हुए जली थी कभी..। 

कभी फुर्सत मिलें तो ढूंढना वो आंसू की बूंदे

जो गिरी थी 'कार' में जब तूने अपने सीने से लगाया था।

कभी फुर्सत मिलें तो ढूंढना अपना वो 'पागलपन'

जब इक रात तूने मेरा आंचल हटाने की ज़िद की थी...। 

जेब में रखे उस रुमाल से भी पूछना

जिससे पूछा था मेरा चेहरा कभी...। 

  ढूंढना उन कांच के टुकड़ों को भी

जो तेरी घड़ी से टूटे थे  कभी..। 

 फुर्सत मिलें तो 'सहलाना'

अपने सीने पर बना वो निशां

जो इन लबो ने सारी हदें पार करके छोड़ा था कभी...। 

आज इस पते पर रहती हैं एक  'खामोशी'

कभी फुर्सत मिलें तो चलें आना इसे तोड़ने कभी...। 

टीना शर्मा 'माधवी'

 

और भी कविताएं पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें—

गढ़िए एक 'झूठी कहानी'

यूं तेरा 'लौटना'...

'दोस्ती वाली गठरी' .....

'फटी' हुई 'जेब'....

__________________________________

प्रिय,
पाठकगढ़! आपको 'कहानी का कोना' ब्लॉग व इसका कंटेंट कैसा लग रहा हैं। कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य भेजें। इसे बेहतर बनाने के लिए यदि आपके पास कोई और भी सुझाव हो तो अवश्य साझा करें।


धन्यवाद
kahanikakona@gmail.com
teenasharma.writer@gmail.com

 

Leave a comment



Secreatpage

1 year ago

मानव होना भाग्य है कवि होना सौभाग्य, पहली कविता के लिए बधाईयाँ.. अच्छा लिखा है

Teena Sharma 'Madhvi'

1 year ago

Thankyou so much...beete wakt ko sabd dene ki koshish he bas...

Vaidehi-वैदेही

1 year ago

जब गद्य औऱ पद्य दोंनों ही विधा पर लिखना आ जाए तो सही मायने में आपमें एक लेखक के गुण हैं 👌🏻👍🏻
प्रथम कविता लेखन पर बधाई।

Teena Sharma 'Madhvi'

1 year ago

Bas yu hi chal gai kalam..aur utar aaye shabd kagaz pr.

AKHILESH

1 year ago

जीवन के
कुछ खास पलो को,एह्सासो को याद करती नायिका की बहुत भावुक अभिव्यक्ति.

Teena Sharma 'Madhvi'

1 year ago

Ji bilkul 👍

Unknown

1 year ago

बहुत ही अच्छा, सच्चा

Teena Sharma 'Madhvi'

1 year ago

Thankyu 🙏

Anonymous

6 months ago

You write amazingly. Your words full of feelings ☘️☘️☘️

Kumar Pawan

गूंगी कविता.... - Kahani ka kona

3 weeks ago

[…] कभी 'फुर्सत' मिलें तो... […]

output-onlinepngtools-tranparent

Follow Us

Contact Info

Copyright 2022 KahaniKaKona © All Rights Reserved

error: Content is protected !!