कविता 'मां'

यूं तो हर दिन 'मां' का हैं...फिर भी उसे किसी एक दिन 'स्पेशल फील' कराने के लिए 'मदर्स—डे' को सेलीब्रेट करना 'अच्छा ही तो हैं'...इसे एक बहाना ही मान लिजिए...पर 'ये अच्छा हैं'...और इसी पॉजिटीव थिंकिंग के साथ आज यानि मदर्स—डे स्पेशल में पढ़िए कवि, लेखक, प्रेरक और चिंतक डॉ.बजरंग सोनी की लिखी कविता 'मां'...।

लेखक 'बेटी बचाओ एवं नारी सम्मान' की मुहिम से जुड़े हुए हैं..वे सेवानिवृत्त वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं एवं कई पत्र—पत्रिकाओं में उनकी कविताएं, कहानियां एवं व्यंग्य प्रकाशित होते रहे हैं। साहित्य के क्षेत्र में वे कई प्रांतीय एवं राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित है। इसमें अखिल 'भारतीय शब्द​ निष्ठा सम्मान', इंडो—जापान डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन के 'काव्य बोधांजलि' व 'कथा वासन्ती' आदि शामिल हैं...। हाल ही में इनकी क़िताब 'मन की टकसाल' प्रकाशित हुई हैं..।

कविता 'मां'

                डॉ. बजरंग सोनी

'मां'

आरोह-अवरोह
निर्दोष विधान
बांहों का झूला
पलकों का आसमान

सूरज सी आदत
चांद सी बात
सुबह की जिद
शाम की सौगात

दरिया के आर-पार
दीपक हजार
छोटा सा घर
बहुत बड़ा संसार

नित नई आस
सांसों के आसपास
काजल लिखी कहानी
सपनों का उपन्यास

डॉ बजरंग सोनी, जयपुर

कुछ और कविताएं पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें—

 'प्रतीक्षा है कविता'...

सपनों की दे​ह पर.....

कविता 'नई पौध'

'दोस्ती वाली गठरी' .....

प्रिय,

पाठकगण आपको ये कविता कैसी लगी ज़रुर लिखकर भेजें। ब्लॉग का कंटेंट आपको कैसा लग रहा हैं ये भी लिखकर भेजें, इससे ब्लॉग को और बेहतर बनाने की प्रेरणा मिलेगी।
धन्यवाद

 

Leave a comment



शिवानी

2 weeks ago

अलग सी कविता ❤️❤️
कविताओं की भीड़ में अपने आप जगह बनाती सुंदर कविता के लिए बधाई और शुभकामनाएँ 💐💐

teenasharma

2 weeks ago

थैंक्यूं शिवानी जी

'सर्वाइवल से सेविअर' तक….. - Kahani ka kona

4 days ago

[…] कविता 'मां' […]

output-onlinepngtools-tranparent

Follow Us

Contact Info

Copyright 2022 KahaniKaKona © All Rights Reserved

error: Content is protected !!