तुलसी की पत्ती

by Teena Sharma Madhvi
  हमेशा याद रहेगा वो एक कप चाय का प्याला, बहुत स्पेशल जो था। होता भी क्यूं ना? किसी के प्यार की मिठास जो थी इसमें।  

   
    जिंदगी की भागमभाग में न जाने कहां खो गई वो चाय की चुस्की। जो हर सुबह अन्नपूर्णा देवी के नाम के बाद ही गले में उतारी जाती थी। यह स्वाद अब मेरी जीभ को फिर कभी नसीब नहीं होगा। यह भी चला गया उसी के साथ। मलाल तो इस बात का रहेगा, एक आखिरी बार उसके गांव जाकर वही पुरानी यादें नहीं जी सकी। जो इसी एक कप चाय के प्याले के साथ में शुरु हुआ करती थी। 

  
 ‘ऐ टिनकी दिन चढ गया, दादो बा ने चाय रख दी हैं—
काश मुझे फिर से इसी प्यारी आवाज से वो नींद से जगा दें, और प्यार से मुझे एक कप चाय की प्याली देकर कहे, पहले अन्नपूर्णा को पिलाओ। लेकिन अब ऐसा तो दुबारा नहीं होगा।
   आज जब मेरे हाथ में वासु ने चाय का प्याला दिया तो उसकी महक ने मुझे वो दिन याद दिला दिया, स्वाद भी लगभग वहीं, तो भला वो पल क्यों ना याद आतामुझे लगता है शायद तुम्हें चाय पसंद नहीं आई…..? वासु ने मुझसे यह सवाल करके मुझे पुरानी यादों से जगाया। नहीं ….नहीं…, मैंने इस तरह उन्हें अपनी उपस्थिति उन्हीं की तरफ होने का अहसास कराया।
  
   जबकि असल में तो मैं सचमुच में तुलसी की पत्ती वाली चाय में खो गई थी। वही पुरानी महक जरा स्वाद भी तो चखूं….काफी हद तक वही हैं। कुछ दिन पहले ही मुझे खबर मिली कि नानीअब नहीं रही।  इस  खबर ने मुझे वाकई में गहरा दुःख पहुंचाया। अब ये कहने वाला कोई नहीं, ‘ऐ टिनकी दिन चढ गया, दादो बा ने चाय रख दी हैं…..। 
    
    गर्मी की छुटिृटयों में अकसर मैं अपने नाना-नानी के गांव जयसिंहपुरा जाया करती थी।
   यह गांव म.प्र. के नीमच जिले में पड़ता है। बहुत ही खूबसूरत गांव है ये। बचपन से किशोरीवस्था तक के जीवन काल के दौरान जब भी मुझे यहां आने का मौका मिला तब तक एक ही परंपरा चली, नानाजी मिटृटी के चूल्हे या कभी-कभार पीतल के स्टोव पर चाय बनाते।
   
   नानी ,मैं और मामाजी चाय छलने का इंतजार करते। नानाजी चाय को खूब उबालते और जब चाय कड़क हो जाती तब हमें कप में भरकर देते। लेकिन इस चाय के प्याले का स्वाद उस वक्त और बढ जाता जब नानी इसमें तुलसी की पत्तियां डाल देती।

    आज जब वासु ने मुझे चाय का प्याला दिया तो यही महक और स्वाद इस प्याले में था। जिसने मुझे इस प्यारी याद को फिर से ताजा करा दिया।

Related Posts

24 comments

Unknown January 17, 2020 - 8:45 am

Shandar didi

Reply
Unknown January 17, 2020 - 8:45 am

Shandar didi

Reply
Vaidehi-वैदेही January 17, 2020 - 9:05 am

Nice👍

Reply
Rakhi January 17, 2020 - 9:35 am

V nice teena.

Reply
Unknown January 17, 2020 - 9:40 am

Very nice effort….

Reply
Unknown January 17, 2020 - 2:44 pm

Yaaden

Reply
Prashant sharma January 18, 2020 - 3:09 am

बहुत शानदार

Reply
varsha January 18, 2020 - 11:05 am

vaah tulsi ki chay jitni mahak wala pyara lekhan.blog ki duniya mein swagat

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:10 pm

thankuu so much mam

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:11 pm

thankuu so much

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:11 pm

thankuu

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:18 pm

thankuuu

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:23 pm

thankuu

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:24 pm

thankuu

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:24 pm

thankuu so much

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 18, 2020 - 2:26 pm

thankuu

Reply
shailendra January 22, 2020 - 2:06 pm

बहुत सुंदर कृति
बधाई
शुभकामनाएं….

Reply
shailendra January 22, 2020 - 2:06 pm

durgesh

Reply
vishnu sharma January 22, 2020 - 5:06 pm

Good teena

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 23, 2020 - 9:05 am

thankuu so much sir..

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 23, 2020 - 9:06 am

thankuu so much

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' January 23, 2020 - 9:07 am

thankuu so much bhaiya

Reply
Unknown February 27, 2020 - 2:48 pm

Very nice thing

Reply
Teena Sharma 'Madhvi' March 10, 2020 - 5:42 am

thankuu so much

Reply

Leave a Comment

मैं अपने ब्लॉग kahani ka kona (human touch) पर आप सभी का स्वागत करती हूं। मेरी कहानियों को पढ़ने और उन्हें पसंद करने के लिए आप सभी का दिल से शुक्रिया अदा करती हूं। मैं मूल रुप से एक पत्रकार हूं और पिछले सत्रह सालों से सामाजिक मुद्दों को रिपोर्टिंग के जरिए अपनी लेखनी से उठाती रही हूं। इस दौरान मैंने महसूस किया कि पत्रकारिता की अपनी सीमा होती हैं कुछ ऐसे अनछूए पहलू भी होते हैं जिसे कई बार हम लिख नहीं सकते हैं।

error: Content is protected !!