तुलसी की पत्ती

  हमेशा याद रहेगा वो एक कप चाय का प्याला, बहुत स्पेशल जो था। होता भी क्यूं ना? किसी के प्यार की मिठास जो थी इसमें।  

   
    जिंदगी की भागमभाग में न जाने कहां खो गई वो चाय की चुस्की। जो हर सुबह अन्नपूर्णा देवी के नाम के बाद ही गले में उतारी जाती थी। यह स्वाद अब मेरी जीभ को फिर कभी नसीब नहीं होगा। यह भी चला गया उसी के साथ। मलाल तो इस बात का रहेगा, एक आखिरी बार उसके गांव जाकर वही पुरानी यादें नहीं जी सकी। जो इसी एक कप चाय के प्याले के साथ में शुरु हुआ करती थी। 

  
 ‘ऐ टिनकी दिन चढ गया, दादो बा ने चाय रख दी हैं---
काश मुझे फिर से इसी प्यारी आवाज से वो नींद से जगा दें, और प्यार से मुझे एक कप चाय की प्याली देकर कहे, पहले अन्नपूर्णा को पिलाओ। लेकिन अब ऐसा तो दुबारा नहीं होगा।
   आज जब मेरे हाथ में वासु ने चाय का प्याला दिया तो उसकी महक ने मुझे वो दिन याद दिला दिया, स्वाद भी लगभग वहीं, तो भला वो पल क्यों ना याद आतामुझे लगता है शायद तुम्हें चाय पसंद नहीं आई.....? वासु ने मुझसे यह सवाल करके मुझे पुरानी यादों से जगाया। नहीं ....नहीं..., मैंने इस तरह उन्हें अपनी उपस्थिति उन्हीं की तरफ होने का अहसास कराया।
  
   जबकि असल में तो मैं सचमुच में तुलसी की पत्ती वाली चाय में खो गई थी। वही पुरानी महक जरा स्वाद भी तो चखूं....काफी हद तक वही हैं। कुछ दिन पहले ही मुझे खबर मिली कि नानीअब नहीं रही।  इस  खबर ने मुझे वाकई में गहरा दुःख पहुंचाया। अब ये कहने वाला कोई नहीं, ‘ऐ टिनकी दिन चढ गया, दादो बा ने चाय रख दी हैं.....। 
    
    गर्मी की छुटिृटयों में अकसर मैं अपने नाना-नानी के गांव जयसिंहपुरा जाया करती थी।
   यह गांव म.प्र. के नीमच जिले में पड़ता है। बहुत ही खूबसूरत गांव है ये। बचपन से किशोरीवस्था तक के जीवन काल के दौरान जब भी मुझे यहां आने का मौका मिला तब तक एक ही परंपरा चली, नानाजी मिटृटी के चूल्हे या कभी-कभार पीतल के स्टोव पर चाय बनाते।
   
   नानी ,मैं और मामाजी चाय छलने का इंतजार करते। नानाजी चाय को खूब उबालते और जब चाय कड़क हो जाती तब हमें कप में भरकर देते। लेकिन इस चाय के प्याले का स्वाद उस वक्त और बढ जाता जब नानी इसमें तुलसी की पत्तियां डाल देती।

    आज जब वासु ने मुझे चाय का प्याला दिया तो यही महक और स्वाद इस प्याले में था। जिसने मुझे इस प्यारी याद को फिर से ताजा करा दिया।

Leave a comment



Unknown

2 years ago

Shandar didi

Unknown

2 years ago

Shandar didi

Vaidehi-वैदेही

2 years ago

Nice👍

Rakhi

2 years ago

V nice teena.

Unknown

2 years ago

Very nice effort....

Unknown

2 years ago

Yaaden

Prashant sharma

2 years ago

बहुत शानदार

varsha

2 years ago

vaah tulsi ki chay jitni mahak wala pyara lekhan.blog ki duniya mein swagat

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu so much mam

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu so much

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuuu

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu so much

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu

shailendra

2 years ago

बहुत सुंदर कृति
बधाई
शुभकामनाएं....

shailendra

2 years ago

durgesh

vishnu sharma

2 years ago

Good teena

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu so much sir..

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu so much

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu so much bhaiya

Unknown

2 years ago

Very nice thing

Teena Sharma 'Madhvi'

2 years ago

thankuu so much

output-onlinepngtools-tranparent

Follow Us

Contact Info

Copyright 2022 KahaniKaKona © All Rights Reserved

error: Content is protected !!